विपक्ष की बात

भारतवर्ष की भूमि पर
जब शीत ऋतु लहराती थी,
असावधान बैठी देहों पर,
क्रूरता बरसाती जाती थी।

हंसते-रोते, चलते-सोते रोजमर्रा के जीवन ढोते,
लोगों के जीवन मे एक दिन आया ऐसा निराला था
लोकतंत्र का गान करके कुछ जनों ने,
देश के हृदय पर तेज़ चुभोया एक भाला था।
सुबह का अखबार जैसे अपने साथ उल्टी स्वतंत्रता लाया था,
लगता था ठंड ने कुछ लोगों का दिमाग भी हिलाया था।

विस्मय से देखते थे भारत के मनुज स्वाभिमानी,
बाहर निकले लोगों को करते विकृत नादानी,
विभाजन करवाने वालों की बातों में वे फंसते थे,
सत्ता के लिए राजनीति खेलने वाले देख हंसते थे।

(सत्ता के लिए राजनीति खेलने वाले?)

अब इनके बारे में क्या बताऊं,
ये हैं ऐसे महान भारतवासी जो –
राष्ट्रहित्कारी नीतियों का विरोध करने से पीछे नहीं ये हटते हैं,
असत्य का प्रचार करके, मगरमच्छ के आंसू बिलखते हैं
किस हद तक गिर सकते हैं ये – इतिहास इसकी गवाही है
डाह-द्वेष की मुस्कान चेहरे पर – इनके प्रयोजन साफ झलकते हैं।


ये वही हैं, अनगिनत दफा जिन्होंने  अधिकार जनता का मारा था,
कान बंद कर लेते थे ये जब-जब सरहद के जवानों ने इन्हें पुकारा था,

बदले में आर्मी चीफ को गली का गुंडा कह दुत्कारा था।

मेरे वामपंथी मित्रों ध्यान से सुनो, आज मैं तुम्हें बताता हूँ,
एक-एक करके इन “बुद्धिजीवियों” की आज मैं लंका लगाता हूँ।

निशाचरी शक्ति तीव्र है इनमे इसके प्रमाण चाहते हो?
भोपाल गैस त्रासदी में रातोंरात एंडरसन को फरार करवाना भूल जाते हो।
2G, 3G, commonwealth, आदि तो हैं अभी की बातें,
आओ इतिहास से निकलते हैं हम इनकी कुछ पुरानी यादें।
कुछ बुद्धिजीवी कहते हैं इन्होंने आज़ादी दिलवाई थी,
और स्वतंत्रता की सारी योजनाएं सिर्फ इनके अंतर से आई थी।
इनकी दलीलें तो शायद कुछ नासमझों के लिए भारी है,
ये सब मानने वालों की तो गयी मति मूढ़ की मारी है।

स्वतंत्रता का अर्थ इनको समझाना आसान नहीं,
सीधे समझ नहीं ये पाते हैं,
जिस थाली में खाते हैं,
छेद उसी में करते जाते हैं।

याद है? जब राष्ट्रीय संघ ने निषेधाधिकार (मतलब वीटो पावर) का प्रस्ताव हमें बढ़ाया था,
विचारहीन होकर चीन से मैत्री के नाम उसे गंवाया था
कितना समय लगा था फिर चीन को पलटने में?
कितना समय लगा फिर भारत के गले मे फांस अटकने में?

असहयोग आंदोलन भी अधूरा रखा था चौरी-चौरा के एवज से,
नेताजी को भी मजबूर किया था अकारण , बेवजह से,
जब यहां राजनीति खेलते किसने वचन निभाया था?
वो उधम सिंह था जिसने ड्वायर को इंग्लैंड जाकर उड़ाया था।

चलो थोड़ा और आगे आते हैं, इनकी हरकतें नज़र में लाते हैं,
जब सरदार पटेल ने पांच सौ बासठ राज्यों को भारत में मिलाया था,
तब अंदरूनी होने के बावजूद भी, किसने,
कश्मीर राष्ट्रीय संघ ले जा कर भड़काया था?

किसने सत्ता के लिए देश मे आपातकाल लगवाया था?
किसने दिल्ली में सिखों का नरसंघार करवाया था?
किसने धर्म और जाति को राजनीति में मुद्दा बनाया था?
किसने कश्मीरी पंडितों की चीख-पुकार अनसुना कर दबाया था?

ये तो कुछ नहीं, इनकी कई शर्मसार हैं बातें,
क्यों सुनते हो इनकी, झूठ बोल ये जनता को बरगलाते?
अफवाह फैलाना धर्म है इनका, दंगा करवाना जाति है,
असत्य-चालबाज़ी की आग लगाते जो स्वयं फैलती जाती है।

(ये लोग जिनको पता कुछ नहीं और दूसरों की बातों में आकर विरोध कर रहे, लाखों का फोन चलाते और मुफ्त का सरकारी कागज़ नहीं पढ़ सकते?) तो-

सत्य की परख करना चाहते हो अगर,
झूठ से पर्दा उठाना चाहते हो अगर,
तो स्वयं जांच करो तथ्यों के आधार पर
अन्यथा विरोध कारगर नहीं होता,
होता है दिखावटी, बेवजह और निराधार पर।

विरोध नहीं कहलाता है राष्ट्र को तोड़ना-जलाना-नुकसान करना
यह कहलाता हैं – स्वतंत्रता और संविधान की हत्या करना।

If you’re an Indian, then after reading this does these words go through your head?

Corrupt Congress. Corrupt opposition parties. Liberals. Anti-nationals.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.