How to Win Friends and Influence People by Dale Carnegie – A Book Review

"There's far more information in a Smile than a frown. That's why encouragement is a much more effective teaching device than punishment." Introduction:GENRE: FictionAUTHOR: Dale CarnegiePAGES: 278YEAR OF PUBLISH: 1936 Dale Carnegie is an American writer, lecturer, and the developer of famous courses in self-improvement, salesmanship, corporate training, public speaking, and interpersonal skills. Dale Carnegie… Continue reading How to Win Friends and Influence People by Dale Carnegie – A Book Review

अभिमन्यु

वीरता के जो होते मिसाल हैं,स्वार्थ, लोभ दुर्गुणों से अधिक विशाल हैं,दुर्घटनाओं में न वे मुरझाते हैं,कठिनाइयों को हंस कर गले लगाते हैं। वीरता भी कई प्रकार की होती है,जैसे सागर में असंख्य मोती हैं,वे संसार भर में पूजे जाते हैं,समाज के आदर्श कहलाए जाते हैं। एक उदाहरण लोकप्रिय वह सही,द्वापर की वह कथा कही-सुनी।साहस… Continue reading अभिमन्यु

A Thing called Hope

Those times of chaos, when, your mind's berated.That wilderness grows, overpowering,You venture about, lost, misdirected,Deeper in the woods;Deeper! Steeper! But beware, the deeper you go,more the light fadesand the gloom transcends,from that foreboding moderate,to the despondent melancholy.The fire foes out,the ashes remain, smouldering. But fear not, O' brave heart,the ashes will smolder,Forget, and on.Cease them,… Continue reading A Thing called Hope

अहिल्या

इस धरा की बात है खासखुद भगवान उतरे यहां सबके साथ।जब कभी अंधकार घिर आता है,मानव नीचे गिरता जाता है,भूमि से हरि को ही पुकारता है,अधर्म से मुक्ति को अकुलाता है।त्रेता में जब यह नाद हुआ,पाप से सत्कर्म जब बर्बाद हुआभीक्षण आंधी उड़ती आती थी,सात्विकता नष्ट कर ले जाती थी।ऋषियों का जीना दूभर हुआ जाता… Continue reading अहिल्या

मृत्यु से मुलाकात

निकल पड़ा मैं घर से किसी बात पे,क्रोधित था मन उस दिन दुनिया के हालात पे,उचटा हुआ मन लिए पहुंचा एक सूने मैदान में,सहसा सन्नाटे से ठिठका, हुआ थोड़ा हैरान मैं । दूर दूर तक न कोई मनुष्य नज़र आता था,न ही आकाश से कोई पंछी चहचहाता था,रोशनी भी धीरे धीरे ढल रही थी,धूल समेटे… Continue reading मृत्यु से मुलाकात

विपक्ष की बात

भारतवर्ष की भूमि परजब शीत ऋतु लहराती थी,असावधान बैठी देहों पर,क्रूरता बरसाती जाती थी।हंसते-रोते, चलते-सोते रोजमर्रा के जीवन ढोते,लोगों के जीवन मे एक दिन आया ऐसा निराला थालोकतंत्र का गान करके कुछ जनों ने,देश के हृदय पर तेज़ चुभोया एक भाला था।सुबह का अखबार जैसे अपने साथ उल्टी स्वतंत्रता लाया था,लगता था ठंड ने कुछ… Continue reading विपक्ष की बात

Immortal Talks – A Book Review

“Are you aware that you are not a body? You have a body.” chorused the elder Mahtangs. Introduction: GENRE: Spirituality AUTHOR: Shunya PAGES:160 YEAR OF PUBLISH: 2017 Mahtangs (better known as Mathangs) are the tribal people residing in the forests of Mount Piduru in Sri Lanka. This tribe, similar to the sentinelese, choose to be cut off from… Continue reading Immortal Talks – A Book Review

You should have a Wife?

When I was happy without any strife,when I had no qualms with life.Then it was deemed by people to advise,"Boy, you should have a wife!" I search for joy and for truth,and go for adventures in my youth.And yet it was deemed by them to be so rife,so people told me to have a wife.… Continue reading You should have a Wife?

The Mango Tree

There I was, sitting under the Mango tree planted in the front yard of my home. My track pant was smudged with earth along with my T-shirt as if I had been rolling around in the mud but I couldn’t care less. I used to live in one of those big government quarters provided by… Continue reading The Mango Tree

आज़ाद

कहते हैं कि भारतवर्ष में आज़ादी की आजकल नई घटा है छायी,जब अपने ही वीर सपूतों की निंदा करने की कुछ लोगों ने है स्वतंत्रता पायी।अपने ही हाथों जिनसे मातृभूमि का गला घोंटा जाता है,उन लोगों को आजकल देश में आज़ाद कहा जाता है। रहते हैं जो उच्च दबाव में, तूफानों में, वीरानों में, शून्य… Continue reading आज़ाद