पाप की परिभाषा

आज के कलियुग में जहाँपाप-व्यभिचार सदा-सद पलता हैइस शहर-उस शहर, हर नगर, हर देश सेहंसते-मुस्कराते, हाथ हिलाते, सिर उठा निकलता है।राह चलते हुए राहगीरों को वह पकड़ता हैहर किसी के मन को वह अंततः जकड़ता हैऔर गलत राह पर ले जा कर वह अकड़ता है(जो मन मे एक बार पाप को बसा लेता है तो… Continue reading पाप की परिभाषा

A broken shoe

There was a broken shoe, Lying upon the greenest grass, Under a tree, inside a park. Who left it there, nobody cared, Discarded as if it was spared, From the constant beating upon the ground, From the roughest course run around. It was once worn by a worldly man, Like the shoe, was he broken… Continue reading A broken shoe